चौथे चरण में साइकिलिंग, शूटिंग, व्हाॅलीबाल,ताइक्वांडो, कराते, वेटलिफ्टिंग तथा जिमनास्टिक खेलों की आज से शुरुआत, इन खेलों में 15 से 30 वर्ष तक के खिलाड़ी हो सकेंगे शामिल

संचालनालय खेल और युवा कल्याण, म.प्र.
तात्या टोपे राज्य खेल परिसर, भोपाल
समाचार
चौथे चरण में साइकिलिंग, शूटिंग, व्हाॅलीबाल,ताइक्वांडो, कराते, वेटलिफ्टिंग तथा जिमनास्टिक खेलों की आज से शुरुआत
इन खेलों में 15 से 30 वर्ष तक के खिलाड़ी हो सकेंगे शामिल
प्रतियोगिताएं एवं खेल आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे

भोपाल: 02 जुलाई, 2020

भोपाल स्थित टी.टी. नगर स्टेडियम में गुरूवार 2 जुलाई, 2020 से व्हाॅलीबाल, ताइक्वांडो (पुमसे), कराते (काता), वेटलिफ्टिंग और जिमनास्टिक तथा गोरेगांव स्थित म प्र राज्य शूटिंग अकादमी में शूटिंग खेलों की शुरुआत की जा रही है। इसके अलावा जबलपुर स्थित रानीताल खेल परिसर में साइकिलिंग खेल प्रारंभ होगा।

चौथे चरण में प्रारंभ होने वाले साइकिलिंग, शूटिंग, व्हाॅलीबाल, ताइक्वांडो, कराते, वेटलिफ्टिंग तथा जिमनास्टिक खेलों में 15 से 30 वर्ष तक आयु समूह के खिलाड़ी ही भागीदारी कर खेलों का अभ्यास कर सकेंगे। कोविड- 19 संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए खेल विभाग द्वारा गाइड लाइन तैयार की गई हैं जिसमें खिलाड़ियों और खेल प्रशिक्षकों द्वारा बरती जाने वाली सावधानियों को शामिल किया गया है। संक्रमण के मद्देनजर प्रतियोगिताएं एवं खेल आयोजन प्रतिबंधित रहेंगे।

संचालक खेल और युवा कल्याण श्री व्ही. के. सिंह ने खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों के लिए तैयार की गई विभागीय गाइडलाइन का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

खेल गतिविधियों की मानक संचालन प्रक्रिया (S.O.P.)

खेल अभ्यास प्रारंभ करने से पूर्व टास्क फोर्स का गठन करने और इसमें शासकीय चिकित्सक, एवं स्थानीय नगर निगम/नगर पालिका/नगर परिषद के स्वास्थ्य प्रभारी को रखे जाने और खेल प्रारंभ करने के पूर्व नगर निगम, नगर पालिका/नगर परिषद के माध्यम से खेल परिसर को संक्रमण से मुक्त किए जाने की कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही निर्देशित किया गया है कि व्हाॅलीबाल एवं बीच व्हाॅलीबाल में अभ्यास के दौरान ट्रेनिंग पार्टनर में बदलाव नहीं किया जायेगा। प्रत्येक रायफल एवं पिस्टल शूटिंग रैंज में एक समय में 10 से अधिक खिलाड़ी प्रवेश नहीं करेंगे। ट्रेप एंड स्कीट में एक रैंज में एक समय में तीन से अधिक खिलाड़ी अभ्यास नहीं करेंगे। शेष अन्य खेलों में एक समय में 10 से अधिक खिलाड़ी, मैदान/हाॅल एवं अभ्यास एरीना में प्रवेश नहीं कर सकेंगे।

खिलाड़ियों के लिये सामान्य शर्ते एवं सावधानियाँ

स्टेडियम में 15 से 30 वर्ष तक के खिलाड़ियों को प्रवेश दिया जायेगा। डे-बोर्डिंग के वर्तमान खिलाड़ी तथा राज्य स्तर पर प्रतिभागिता करने वाले वर्तमान खिलाड़ियों को ही चौथे चरण में प्रवेश दिया जायेगा। खेल गतिविधि प्रारंभ करने से पूर्व खिलाड़ियों का प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।

प्रत्येक खिलाड़ी की प्रत्येक सेशन से पूर्व थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य रहेगी। प्रत्येक खिलाड़ी को कोविड-19 टेस्ट कराना अनिवार्य होगा। एक समय में अधिकतम 10 खिलाड़ी ही अभ्यास हेतु प्रवेश कर सकेंगे। खेल परिसर में कन्टेनमेंट क्षेत्र (हाॅट स्पाट/बफर जोन) के खिलाड़ी का प्रवेश निषेध रहेगा। खेल परिसर में कोविड-19 के खतरे को दृष्टिगत रखते हुए तथा एक स्थान वायरल लोड को ध्यान में रखते हुए वाॅकिंग, जाॅगिंग, योगा एवं अन्य व्यायाम करने हेतु नागरिकों को प्रवेश की अनुमति नहीं रहेगी। आरोग्य सेतु ऐप इंस्टाल करना अनिवार्य होगा। सोशल डिस्टेन्सिंग (सामाजिक दूरी) का पालन करना अनिवार्य होगा अर्थात प्रशिक्षण के दौरान दो मीटर का डिस्टेन्स रखना होगा तथा किसी भी स्थिति में एक स्थान पर भीड़ अथवा अधिक संख्या में एकत्र होना वर्जित होगा। प्रशिक्षण के दौरान उपयोग होने वाले खेल उपकरण को आपस में अदला बदली करके उपयोग नही किया जावेगा। खेल परिसर में प्रवेश के खिलाड़ी के हाथ, पैर को सेनेटाईज करना आवश्यक होगा तथा यह भी अनिवार्य होगा कि खिलाड़ी अपने खेल संबंधी शूज पृथक से लेकर आयेगा तथा वह खेल प्रारंभ करने के पूर्व उसका उपयोग करेगा। खिलाड़ी को अपनी व्यक्तिगत किट (प्लेइंग किट एवं चेंजिंग किट, वाटर बाटल, अतिरिक्त टी-शर्ट, टाॅवल, ट्रेनिंग शूज, सेनेटाईजर,) लाना एवं अभ्यास सत्र के पूर्व एवं पश्चात चैंज करना अनिवार्य होगा। प्रशिक्षण के दौरान खेल मैदानध्उपकरण को प्रशिक्षण से पूर्व एवं बाद में सेनेटाईज किया जावे। प्रत्येक खिलाड़ी एक घण्टा वास्तविक अभ्यास हेतु समय प्रशिक्षक द्वारा आबंटित किया जा सकेगा।

प्रशिक्षण समाप्त होने के तत्काल बाद खिलाड़ियों को खेल मैदान छोड़कर जाना अनिवार्य होगा। मास्क के बिना प्रवेश नहीं दिया जावेगा। खेल परिसर में प्रवेश से पूर्व खिलाडियों की इन्फ्रारेड थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य होगा।इन्फ्रारेड थर्मल स्क्रीनिंग से तात्पर्य ऐसी टेम्प्रेचर डिवाईस जो गैर सम्पर्क तरीके से खिलाड़ी का ट्रेम्प्रेचर माप सके। समस्त खिलाड़ी जो खेल परिसर में अभ्यास करना चाहते है। उन्हे आवश्यक रूप से सहमति पत्र प्रस्तुत करना होगा जिसमें स्पष्ट रूप से यह लेख होगा कि यदि वह अभ्यास के दौरान संक्रमण से ग्रसित होते है तो उसकी संपूर्ण जिम्मेदारी खिलाडी की होगी। साथ ही खिलाड़ी को कोविड संक्रमण से बचाव के निर्धारित प्रोटोकाल का पालन करना अनिवार्य होगा। खेल परिसर मे अभ्यास के दौरान थूंकने, नाक छिनकना, पसीना, छिड़कना अनावश्यक रूप से स्वयं के चेहरे को छूना प्रतिबंधित रहेगा। यदि खिलाड़ी को ऐसी चोट लगी हो जिसमें उसका शरीर कटा अथवा छिला हो ऐसे खिलाड़ी का परिसर में प्रवेश वर्जित रहेगा। खिलाड़ी को अभ्यास के पश्चात् घर पहुचने पर नहाना अनिवार्य होगा। कोविड-19 के लक्षण दिखायी देने पर खिलाड़ियो को तत्काल इसकी सूचना स्टेडियम प्रशासन को देना अनिवार्य होगा। सार्वजनिक शौचालय एवं पीने के पानी के स्थान को यथा संभव स्वच्छ रखने का प्रयास किया जावे वहां पर भी सोशल डिस्टेन्सिंग (सामाजिक दूरी) का पूर्ण ध्यान रखा जाएगा। खेल परिसर में ए.सी. का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा। खिलाड़ी को अपने निर्धारित समय से 30 मिनिट पूर्व प्रशिक्षण स्थल पर उपस्थिति देना आवश्यक होगा। जिम पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। उक्त नियमों का पालन न करने वाले खिलाड़ी तत्काल परिसर में प्रवेश से प्रतिबंधित कर दिया जावेगा।

प्रशिक्षकों एवं सहायक स्टाॅफ हेतु सामान्य शर्ते एवं सावधानियाँ

 

कोविड-19 का टेस्ट कराने के उपरान्त ही खेल परिसर/स्टेडियम में प्रवेश की अनुमति रहेगी। खेल परिसर में कन्टेन्मेंट क्षेत्र (हाॅट स्पाट) बफर जोन के प्रशिक्षक एवं सहायक स्टाफ का प्रवेश निषेध रहेगा। खेल परिसर में विभाग द्वारा संचालित खेल अकादमियों में कार्यरत प्रशिक्षकों, स्टेडियम में कार्यरत प्रशिक्षकों एवं सहायक स्टाफ को ही प्रवेश की अनुमति होगी। प्रशिक्षक एवं सहायक स्टाफ को कोविड संक्रमण से बचाव हेतु आयोजित किये जा रहे प्रशिक्षण सत्र में भाग लेना अनिवार्य होगा। आरोग्य सेतु ऐप इंस्टाल करना अनिवार्य होगा। मास्क के बिना प्रवेश नहीं दिया जावेगा।

प्रत्येक अभ्यास सत्र के पूर्व प्रत्येक खिलाड़ी/प्रशिक्षकों/सहायक स्टाफ की इन्फ्रारेड थर्मल स्क्रीनिंग एवं हाथ-पैर को सेनेटाईज करना अनिवार्य होगा। प्रशिक्षण स्थल, उपकरण, प्रशिक्षण सामग्री आदि अभ्यास के पूर्व एवं पश्चात् संक्रमण मुक्त करवाना प्रशिक्षक की जिम्मेदारी होगी।

प्रशिक्षण स्थल में ए.सी. का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा। प्रशिक्षक को खिलाड़ियों के प्रवेश एवं निर्गम का रिकार्ड उपस्थिति पंजी में पृथक से रखना अनिवार्य होगा।प्रशिक्षक को ट्रेनिंग प्रोग्राम, समय-सारणी तेयार करना होगा, जिसमें यह सुनिश्चित किया जावेगा कि एक समय में अधिकतम 10 से अधिक खिलाड़ी अभ्यास न करेें। परिसर में आने वाले खिलाड़ी, प्रशिक्षक एवं सहायक स्टाफ में कोविड-19 के लक्षण दिखायी देने पर संबंधित प्रशिक्षक तत्काल इसकी सूचना स्टेडियम प्रशासक एवं कोविड टास्ट फोर्स को अनिवार्य रूप से देगा। संबंधित प्रशिक्षक एवं सहायक स्टाफ को अपने निर्धारित समय से 45 मिनिट पूर्व प्रशिक्षण स्थल पर उपस्थिति देना आवश्यक होगा।

जिम पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। खिलाड़ियों के लिये बनाये गये दिशा-निर्देशों का अक्षरशः पालन कराने का दायित्व संबंधित प्रशिक्षक का होगा।

 

समा. क्र. 79

——————-

महेन्द्र व्यास,
जनसम्पर्क अधिकारी

चौथे चरण में साइकिलिंग, शूटिंग, व्हाॅलीबाल,ताइक्वांडो, कराते, वेटलिफ्टिंग तथा जिमनास्टिक खेलों की आज से शुरुआत, इन खेलों में 15 से 30 वर्ष तक के खिलाड़ी हो सकेंगे शामिल
Scroll to top